Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो से जुडी सम्पूर्ण जानकारी

Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो को पालने से पहले जरुरी जानकारी – ल्हासा अप्सो की नस्ल का कुत्ता तिब्बत में पैदा होने वाली एक अलग ही गैर खेल जैसे कुत्ते की नस्ल है। इन्हें नियमित रूप से एक आंतरिक प्रहरी के रूप में इस्तेमाल किया गया है।

आज हम आपको अपने इस आर्टिकल में ल्हासा अप्सो की नस्ल के कुत्ते कैसे होते है उनकी सारी जानकारी आपके साथ शेयर करने जा रहे है। तिब्बत में ल्हासा अप्सो की नस्ल बेहद ही पुरानी लगभग एक हजार साल पहले भव्य रूप से लेपित नस्ल है।

Lhasa Apso in Hindi ल्हासा अप्सो से जुडी सम्पूर्ण जानकारी
Lhasa Apso in Hindi ल्हासा अप्सो से जुडी सम्पूर्ण जानकारी

जो महलों और मठों में सेवा करने के किये प्रहारों के रूप में हमेशा कार्य करती रहती है और वह हिमालय में अलग – अगल है। ये काफी आत्मविश्वाशी, साहसी , स्मार्ट और जटिल , लासा पारिवारिक हास्य अभिनेता है लेकिन ये अजनबियो के साथ मुख्य रूप से काफी ज्यादा अलग है।

Lhasa Apso की नस्ल एक बेहद ही शुद्ध नस्ल है इन नस्ल के कुत्ते काफी ज्यादा विशाल और खतरनाक होते है। लेकिन Lhasa कुत्ता अपने घर का और अपने परिवार का सबसे वफादार होता है। कुत्तों के पास ऐसी प्रकृति की रक्षा है ये हमेशा ही बेहद खूबसूरत और प्यारा लैपडाग होते है जो अपने परिवार साथ समय बिताना काफी ज्यादा पसंद करते है। इसके साथ ही ये परिवार के पालतू जानवर के रूप में बेहद ही लोकप्रिय है।

ल्हासा अप्सो का इतिहास | Lhasa Apso in Hindi

Lhasa Apso की नस्ल के ऐसे कुत्तों की उत्पत्ति तिब्बत देश में हुई थी। यह तिब्बत टेरियर और इसी तरह के झुंड के प्रकार के तिब्बती कुत्तों के द्वारा बनाई गयी के बेहद ही पुरानी या फिर कहे की काफी प्राचीन नस्ल हो सकती है।

7वीं शताब्दी में एक निश्चित नस्ल के रूप में ल्हासा अप्सो के इन कुत्तों की नस्लो की स्थापना किया गया है। अमेरिकन केनेल क्लब(AKC) ने आधिकरिक रूप से 1935 में टेरियर ग्रुप में इन नस्ल को स्वीकार कर लिया गया है। वहीं 1959 में इन नस्लो को गैर पोस्टिंग के रूप में स्थानांतरित कर दिया गया।

Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो को पालने से पहले जरुरी जानकारी
Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो से जुडी सम्पूर्ण जानकारी

वहीं यूके में इन नस्ल के कुत्तों को यूटिलिटी ग्रुप में रखा गया है। ल्हासा अप्सो के नस्लो का एक बेहद ही शाही इतिहास है जो 800 ईसा पूर्व से शुरू होता है। एएलऐसी के अनुसार, तिब्बत में जब उन्हें प्रहरी कुत्तों के रूप में पालतू जानवर के रूप में पाला गया था जो हिमालय के पहाड़ों में ऊंचे महलों और बुद्ध मठों के अंदर खड़े थे।

दिलाई लामाओ ने Lhasa Apso की नस्ल को पालतू जानवर के रूप में तोड़ा और उन्हें सम्मानित होने के लिये उपहार के रूप में भी इसे इस्तेमाल किया था। चीन देश में भेजे गये इन नस्ल के कुत्तों का उपयोग Pekingese नस्लो के रूप में स्थापित किया गया था। उन्हें काफी तेज छाल और उनके रूढ़िवादी स्वभाव के कारण इन जैसे कुत्तों को गार्ड की नस्ल के कुत्तों के रूप में इस्तेमाल किया गया था।

ल्हासा अप्सो डॉग का व्यक्तित्व और कीमत | Lhasa Apso price, Personality

इस नस्ल के कुत्ते अपने परिवार और अपने मालिकों के प्रति काफी ज्यादा वफादार होते है और बड़े बच्चों के लिये ये काफी अच्छे पालतू जानवर के रूप में इस्तेमाल किये जा सकते है। ल्हासा अप्सो एक छोटे कुत्ते की नस्ल हो सकता है हालांकि यह काफी ज्यादा ताकतवर और बेहतरीन तरीके से संतुलित होते है।

Lhasa Apso एक गैर खेल वाला कुत्ता भी कहा जा सकता है और इसके साथ ही ये एक अनूठा व रोमांचक मिश्रण है। ल्हासा अप्सो के ये कुत्ते सेवानिवृत्त होने और काफी ज्यादा शर्मीले भी है।

Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो को पालने से पहले जरुरी जानकारी
Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो से जुडी सम्पूर्ण जानकारी

यदि आप किसी भी बात को लेकर दुखी रहते है तो वह आपत्ति करने के लिये काफी तेज है। वहीं ये अपने घर कब मालिकों के प्रति काफी ज्यादा इमानदार और वफादार होते है। ऐसे में बड़े बच्चे इस नस्ल के कुत्तों को पालतू जानवर के रूप में आसानी के साथ अपने पास रख सकते है।

यह कुत्ता काफी तेज तर्राक और जोर से अलार्म छाल के साथ एक उत्कृष्ट प्रहरी है। इस नस्ल का कुत्ता काफी अच्छी तरीके से पालन पोषण करने वाला कुत्ता है जो काफी वफादार और बुद्धिमान है। हालांकि इस नस्ल का कुत्ता अपने कोच के लिये काफी चुनौतीपूर्ण भी साबित हो सकता है.

जब कभी भी कुत्तों के कीमत की बात की जाती है तो ऐसे में यह बताना काफी ज्यादा मुश्किल हो जाता है की कुत्तों की सबसे अच्छी और कहे की ल्हासा अप्सो की परफेक्ट कीमत क्या है? क्योंकि कुत्तों की कीमत उनके उम्र, स्वास्थ्य, ब्रीडर लोकेशन यह सभी उनके फैक्टर पर निर्भर करता है।

ल्हासा अप्सो कुत्तों की कीमत(Lhasa Apso price) क्या हो सकती है? ल्हासा अप्सो की कीमत भारत में 15000 रुपए से शुरू होकर लगभग 25000 रुपए तक हो सकती है। जो हड्डी, संरचना, कोट और इसके साथ ही कई अन्य सारे चीजों के आधार पर इनकी अच्छी कीमत 30000 रुपए तक भी हो सकती है।

ल्हासा अप्सो स्वभाव में कैसे हैं? | Lhasa apso puppies in Temperament

Lhasa Apso के नस्ल का यह कुत्ता बेहद ही खुशमिजाज शरारती और काफी चंचल कुत्ता कहा जा सकता है। वह राजसी , स्वतंत्र और अधिक उग्र भी है इसके साथ ही इस कुत्ते का स्वभाव एक वफादार, काफी ऊर्जावान, चालाक, बुद्धिमान, मिलनसार, आज्ञाकारी, उत्साही, सतर्क, जीवंत, निडर, मुखर स्थिर स्वभाव का होता है।

इस नस्ल का कुत्ता अपने घर परिवार की रक्षा करने की जिम्मेदारी काफी अधिक गंभीरता के साथ लेता है। यह एक स्नेही और सभ्यसाथी है इसके साथ ही यह कुत्ता काफी अधिक समय तक निद्रा भी लेता है।

वहीं इसे बूढ़ा होने में काफी समय लगता है उनके पास उच्च रखरखाव और न्यूनतम व्यायाम है इन नस्ल के कुत्तों का पैर काफी छोटा होता है। इसके साथ ही इन कुत्तों को प्रशिक्षित करना काफी ज्यादा कठिन होता है।

ल्हासा अप्सो हाइपोएलर्जेनिक है, इसलिये इन्हें एक इनडोर वॉचडॉग के रूप में उपयोग किया जाता है। ऐसे कुत्ते मिलनसार है लेकिन ये अजनबियो के प्रति सहिष्णु नहीं है।

ल्हासा अप्सो की दिखावट और शरीरिक बनावट | Lhasa dog appearance, Temperament

पूरे तरीके से विकसित नर ल्हासा अप्सो लगभग 9 से 11 इंच लंबा होता है और इसका वजह 12 से 18 पाउंड तक हो शतक है जबकि इनके मादा पिल्ले काफी छोटे छोटे होते है। इस नस्ल के कुत्ते भव्य काले तन, क्रीम, सफेद और लाल रंग के कोट होते है.

हालांकि, ये नीले भूरे व चांदी के भी हो सकते है लेकिन वे कम आम है। इन कुत्तों का सिर लगभग 12 सेमी होता है इनके सिर की जांच करना और उनकी देखभाल करना अधिक आसान होता है। उनके पास मध्यम आकार के अंडाकार है,

और इनकी गहरी आँखें एक प्रकार का बेहतरीन लुक प्रदान करती है। ऐसे में यह गोलाकार व विशाल आंख को इन्गित करता है और इसका नाक जेट ब्लैक कलर का होता है। पूछ को कुत्ते की पीठ पर अच्छी तरह से ले जाना चाहिये इन कुत्ते के बाल लंबे लेकिन कान काफी छोटे होते है।

ल्हासा अप्सो को व्यायाम की आवश्यकता है? | Lhasa apso in exercise

Lhasa Apso के नस्ल ले इन जैसे कुत्तों को अधिक व्यायाम की कोई भी आवश्यकता नहीं होती है। इन कुत्तों के पास प्रतिदिन 25 से 30 मिनट तक व्यायाम करने की आवश्यकता होती है। इन कुत्तों को इनके फेवरेट खिलौने के साथ रोजाना खेलने और टहलने का समय देना चाहिये।

इन जैसे कुत्तों को व्यायाम उन्हें काफी अधिक मजबूत के साथ सतर्क भी बनाता है और उच्चतर सामाजिककरण करता है। ऐसे में इनकी मजबूत हड्डियों और इनकी मांसपेशियों का निर्माण होता है। इनकी इस गतिविधि के कारण ये अधिक समय तक सोते है और इसके अलावा व्यायाम से इनके हृदय प्रणाली में काफी सुधार आ जाता है।

ल्हासा अप्सो डॉग के स्वास्थ्य से जुडी समस्याएं | Lhasa dog Health issue

इन कुत्तों की यह एक ऐसी स्थिति होती है जो कुत्ते के हिप सॉकेट को अधिक प्रभावित करती है। कुत्ते के युवा और शारीरिक रूप से अपरिपक्व रहने के बाद हिप डिस्प्लेसिया स्टार्ट हो जाता है। हिप डिस्प्लेसिया एक सॉकेट का असामान्य गठन है जो अंततः अपने या फिर अन्य गंभीर प्रकार के जोड़ों की लकड़ापन और सूजन की बीमारी का भी कारण बन सकती है। ऐसे में इससे निवारण के लिये कुछ सर्जरि की भी आवश्यकता पड़ सकती है।

पायलोरिक स्टेनोसिस –

पेट और छोटी आंत के बीच में एक मार्ग होता है और यह पेट में जाने वाले पदार्थ यानी की खाने पीने की सामग्री को आंशिक रूप से पचाने में बेहद ही अच्छे से सहायता करता है। लेकिन एक बार जब यह मार्ग संकरा हो जाता है तो फिर इसे पाइलोरिक स्टेनोसिस के नाम से जाना जाने लगता है।

रेटिनल एस्ट्रोफी –

यह बीमारी इन जैसे नस्ल के कुत्तों की आंखों के रेटिना पर हमला बोल देती है और यह अंधेपन के बाद ही समाप्त होता है। रेटिनल एस्ट्रोफी विकसित हो सकती है और ऐसे में उनकी आँखें बादल या सफेद भी हो सकती है। एक परिपक्व मोतियाबिन्द आपके पालतू कुत्ते की आइरिस के पीछे एक सफेद डिस्क की तरफ दिखाई देने लग जाता है।

फिर इसके साथ ही ऐसे कुत्तों को मोतियाबिन्द रोग हो जाता है। जब ध्यान बादलों का लेंस अंदर पानी के संतुलन में परिवर्तन या फिर लेंस के भीतर प्रोटीन में परिवर्तन का कारण बन जाता है।

त्वचा की एलर्जी –

इन जैसे कुत्तों में त्वचा की एलर्जी काफी जल्दी ही देखने को मिल सकती है क्योंकि इनमें पिस्सू घास पराग और धूल जैसे कण ही एलर्जी का कारण बन जाते है। वहीं इसके अलावा कुत्तों को सौंदर्य उत्पादों, भोजन और पर्यावरण से संबंधित परेशानिया जैसे बीजाणुओं या फिर कीड़ों के काटने से भी उन्हें ऐसी एलर्जी हो सकती है। इसका नतीजा यह निकलता है की कभी कभी उनकी त्वचा लाल रंग में विकसित हो जाती है।

दिल की बीमारी –

इस नस्ल के कुत्तों में सामान्य रूप से हृदय से संबंधित रोग का लक्षण होना अब लगभग सामान्य बात हो गयी है। कार्डियोपैथी केंद्र के एक एक तरफ या आमतौर पर दोनों तरफ हो सकता है ऐसे में यह धीरे धीरे आगे बढ़ने लगेगा और फिर इसे पहचानने में काफी समय लग जाएगा।

ऐसे में आपके कुत्ते को छवि और छाती के एक्सरे जैसी किसी भी सेवा की आवश्यकता निश्चित तौर पर ही पड़ सकती है। ऐसे में इनके उपचार में आहार नियंत्रण, इनकी दवा के साथ ही इसमें सर्जरि भी शामिल हो सकती है।

ल्हासा अप्सो को प्रशिक्षण कैसे दें? Lhasa apso puppies in Training

Lhasa Apso नस्ल के ऐसे कुत्ते काफी ज्यादा बुद्धिमान कुत्ते होते है लेकिन ये थोड़े जिद्दी टाईप के होते है और अपने आप में स्वतंत्र होते है इसीलिये इन्हें प्रशिक्षित करना काफी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। इनके लिए एक दृढ़ लेकिन धैर्यवान हाथ सबसे अच्छा कार्य करता है।

Lhasa Apso नस्ल के इन कुत्तों को पिल्ला हुड में अन्य कुत्तों के साथ लोगो और अन्य जानवरों के लिये सामाजिक रूप से अच्छी तरह से तैयार किया जाना चाहिये। ये काफी तेज तर्राक और जोर से अलार्म छाल के साथ उत्कृष्ठ प्रहरी है।

ल्हासा अप्सो को कैसे सँवारे? Lhasa dog grooming tips

ल्हासा अप्सो नस्ल के इन जैसे कुत्तों को बार बार नहलाने और फिर संवारने की अधिक आवश्यकता होती है। इस शरारती नस्ल के तिब्बती कुत्तों के गतिविधि के स्तर और कोटे की लंबाई के आधार पर हर सप्ताह में कम से कम एक बार और महीने में कम से कम 4 से 6 बार इन कुत्तों को नहलाकर तैयार किया जाना चाहिए।

Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो को पालने से पहले जरुरी जानकारी
Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो से जुडी सम्पूर्ण जानकारी

इन नस्ल के कुत्तों का कोट काफी मोटा और घना होता है इसीलिये आसानी से चटाई और उलझ जाता है। इन कुत्तों को एक सुखद अनुभव देने और स्वस्थ त्वचा के साथ कोट बनाए रखने की अनुमति देने के लिये पालतू जानवरों से मेल खाने के लिये उत्पादों का चयन करना अति महत्वपूर्ण हो जाता है।

मुझे उम्मीद है कि आपको हमारा "Lhasa Apso in Hindi | ल्हासा अप्सो को पालने से पहले जरुरी जानकारी'' से जुड़ा लेख पसंद आया होगा। डॉग से जुड़े ऐसे ही बेहतरीन जानकारियों को पाने के लिए DOGKIDUNIYA.COM को बुक्मॉर्क करें और रोजाना विज़िट करें।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *